हाइलाइट्स

नासा 27 सितंबर को अपने आर्टेमिस I चंद्रमा मिशन को लॉन्च करने का करेगा प्रयास
मौसम के कारण हुई देरी से सीख लेते हुए नासा मौसम परीक्षण के डेटा का करेगा आकलन
इस मिशन से नासा वापस चांद पर एस्ट्रोनॉट्स को भेजने के लिए बढ़ाएगा कदम

वॉशिंगटन. हाइड्रोजन रिसाव (Hydrogen leak in Artemis 1) होने के चलते दो बार लॉन्च से चूके अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (US Space Agency NASA) के आर्टेमिस I को एक बार फिर टेक ऑफ के लिए तैयार कर लिया गया है. न्यूज़ एजेंसी IANS की एक खबर के अनुसार नासा ने बयान में कहा कि स्पेस लॉन्च सिस्टम (SLS) के साथ लोडिंग प्रक्रिया में हाइड्रोजन रिसाव होने की समस्या को इंजीनियर्स की टीम ने ठीक कर दिया है. वहीं रॉकेट के टैंकों में प्रोपेलेंट लोड करने, किक-स्टार्ट ब्लीड का संचालन और पूर्व-दबाव परीक्षण को भी डेमोंस्ट्रेशन टेस्ट में परख लिया गया है.

नासा ने एक ट्वीट में कहा कि आर्टेमिस I के क्रायोजेनिक प्रदर्शन परीक्षण के दौरान तरल हाइड्रोजन रिसाव को मैनेज कर लिया गया है. वहीं लॉन्च डायरेक्टर ने भी पुष्टि की कि क्रायोजेनिक प्रदर्शन परीक्षण के लिए सभी उद्देश्यों को पूरा कर लिया गया है, और टीमों ने रॉकेट के टैंकों को खाली करने की जटिल प्रक्रिया को शुरू कर दिया है.

मौसम देख कर होगा लॉन्च
पिछली बार मौसम के कारण हुई देरी से सीख लेते हुए नासा अगले लॉन्च की पुष्टि करने से पहले मौसम और अन्य कारकों के साथ परीक्षण के डेटा का आकलन करेगा. नासा ने कहा, “रॉकेट एक सुरक्षित कॉन्फ़िगरेशन में रहेगा जब तक टीमें अगले चरणों का आकलन करेंगी.” समीक्षा के तहत 2 अक्टूबर के संभावित बैकअप अवसर के साथ, नासा 27 सितंबर को अपने आर्टेमिस I चंद्रमा मिशन (NASA Moon Mission) को लॉन्च करने का प्रयास करेगा.

आपको बता दें कि 3 सितंबर को, नासा ने आर्टेमिस I को लॉन्च करने का प्रयास किया था लेकिन तरल हाइड्रोजन रिसाव का पता चलने के बाद इसे रोक दिया गया. वहीं इससे पहले अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने 30 अगस्त को एसएलएस रॉकेट के इंजनों में से एक के साथ तकनीकी खराबी के कारण पहली बार मिशन लॉन्च को रद्द कर दिया था।

Tags: Nasa



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.