नई दिल्ली. भारत की सीनियर ‘क्वॉर्टर मिलर’ और एशियाई खेलों की पदक विजेता एम आर पूवम्मा पर पिछले साल डोपिंग जांच में विफल आने के बाद दो साल का प्रतिबंध लगाया गया. नाडा के डोपिंग रोधी अपील पैनल (एडीएपी) ने अनुशासनात्मक पैनल के तीन महीने के निलंबन के फैसले को उलट दिया.

32 साल की पूवम्मा का डोप नमूना पिछले साल 18 फरवरी को पटियाला में इंडियन ग्रां प्री एक के दौरान लिया गया था, जिसमें वह मिथाइलहेक्सेनअमाइन प्रतिबंधित पदार्थ की पॉजिटिव पाई गई थीं. यह विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) संहिता के अंतर्गत प्रतिबंधित पदार्थ है.

‘कोई पॉलिसी नहीं है’ : पिकलबॉल एसोसिएशन के दिव्यांग चीफ को एयरलाइन ने नहीं दी उड़ान की इजाजत

डोपिंग रोधी अनुशासनात्मक पैनल ने जून में उन्हें महज तीन महीने के लिए निलंबित किया था, लेकिन नाडा की अनुशासनात्मक पैनल के फैसले के खिलाफ अपील में एडीएपी ने पूवम्मा पर दो साल का प्रतिबंध लगाया गया.

AIFF ने हेड कोच से कहा, एशिया कप के अंतिम-8 में पहुंचाओ या बाहर जाओ

पूवम्मा 2018 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली चार गुणा 400 मीटर महिला और मिश्रित रिले टीमों की सदस्य थीं. वह 2014 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली चार गुणा 400 मीटर रिले टीम का भी हिस्सा थीं. उन्होंने 2012 एशियाई खेलों में व्यक्तिगत 400 मीटर का कांस्य पदक जीता था. उन्हें 2015 में अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया था.

Tags: NADA



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.