हाइलाइट्स

वनडे क्रिकेट के इतिहास में 20 सितंबर का दिन हे बेहद खास
वनडे में पहली बार किसी गेंदबाज ने ली थी हैट्रिक
इसके बावजूद गेंदबाज 8 वनडे और 6 टेस्ट ही खेल पाया

नई दिल्ली. अपने दूसरे मैच में ही अगर कोई गेंदबाज वनडे इतिहास को बदल दे. इसके बावजूद उसका करियर सिर्फ 8 मैच लंबा चले तो यह हैरानी करने वाली बात ही कही जाएगी. लेकिन, ऐसा एक गेंदबाज के साथ हुआ था, जिसका पाकिस्तान से नाता था और उसने आज ही के दिन यानी 20 सितंबर को वनडे क्रिकेट में बड़ा कारनामा किया था. इसे बताने से पहले, आपको गेंदबाज का नाम बता देते हैं. इस बॉलर का नाम था जलालुद्दीन. पाकिस्तान के इस पेसर ने 20 सितंबर, 1982 के दिन वनडे क्रिकेट की पहली हैट्रिक ली थी. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी. इसके बावजूद इस गेंदबाज को इसके बाद 6 और वनडे खेलने का मौका मिला और उनका करियर खत्म हो गया.

एक वनडे का अनुभव रखने वाले जलालुद्दीन को सितंबर 1982 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज में मौका दिया गया था. इमरान खान मांसपेशियों में खिंचाव के चलते इस सीरीज का हिस्सा नहीं थे. उनकी गैरहाजिरी में जहीर अब्बास ने पाकिस्तान टीम की कमान संभाली थी. दोनों देशों के बीच हैदराबाद (सिंध) के नियाज स्टेडियम में पहला वनडे खेला गया था. इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया. पाकिस्तान ने 40 ओवर के उस मैच में ऑस्ट्रेलिया को 230 रन का लक्ष्य दिया. पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज मोहसिन ने 104 रन की पारी खेली.

जवाब में ग्रीम वुड और ब्रूस लायर्ड ने ऑस्ट्रेलिया ने तेज शुरुआत दिलाई. इस जोड़ी ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 23 ओवर में 104 रन जोड़ डाले. इसके बाद तौसीफ अहमद ने 5 रन के भीतर ही ऑस्ट्रेलिया के तीन विकेट झटक लिए. हालांकि एलन बॉर्डर और जॉन डायसन की जोड़ी ने ऑस्ट्रेलिया के स्कोर को 157 रन तक पहुंचाया. जलालुद्दीन ने बॉर्डर को आउट कर इस पार्टनरशिप को तोड़ा.

जलालुद्दीन ने दूसरे मैच में हैट्रिक ली
इसके बाद जलालुद्दीन ने वनडे क्रिकेट में वो किया, जो पहले कभी नहीं हुआ था. ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 162 रन था और जलालुद्दीन अपना सातवां ओवर फेंकने आए. उन्होंने अपने इस ओवर की आखिरी तीन गेंद पर ऑस्ट्रेलिया के 3 बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई. सबसे पहले जलालुद्दीन ने विकेटकीपर रोडनी मार्श (1) को क्लीन बोल्ड किया.

अगली गेंद पर ब्रूस यार्डले (0) का शिकार किया और इसके बाद ज्योफ लॉसन (0) को आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की. ऑस्ट्रेलिया की टीम 9 विकेट खोकर 170 रन ही बना पाई और पाकिस्तान ने वो मैच 59 रन से जीत गया. हैट्रिक लेने वाले जलालुद्दीन के स्थान पर शतकवीर मोहसिन को मैन ऑफ द मैच चुना गया.

SA20 Player Auction: रोहित शर्मा का साथी खिलाड़ी सबसे महंगा बिका, अफ्रीकी कप्तान को किसी ने नहीं खरीदा

VIDEO: युवराज सिंह ने जड़े थे 6 गेंदो में 6 छक्के, जानें कितने रिकॉर्ड्स बने थे उस दिन

अगले दिन मनाया था हैट्रिक का जश्न
दिलचस्प बात यह है कि जलालुद्दीन ने अपनी हैट्रिक का जश्न अगले दिन मनाया, क्योंकि उस दिन उन्हें यह पता ही नहीं था कि वो वनडे में हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज बने गए. उन्होंने खुद एक इंटरव्यू में यह खुलासा किया था. जलालुद्दीन ने कहा था कि इस मुकाबले के अगले दिन जब रिकॉर्ड की पड़ताल की गई तो पता चला कि वनडे में पहली बार ऐसा हुआ है.

अपने दूसरे मैच में हैट्रिक लेकर सनसनी मचाने वाले जलालुद्दीन का करियर बड़ा नहीं रहा. वह इस मैच के बाद 6 और वनडे खेले और कुल 14 विकेट लिए. उन्होंने पाकिस्तान के लिए 6 टेस्ट खेले और इसमें 11 विकेट लिए.

Tags: On This Day, Pakistan cricket



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.