हाइलाइट्स

क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप की बात हाेती है तो केएल राहुल का स्ट्राइक-रेट चर्चा में होता है.
61 टी20 मैचों में दाएं हाथ के बल्लेबाज राहुल का स्ट्राइक रेट 140.91 रहा है.
एशिया कप में हांगकांग के खिलाफ मैच में उन्होंने 39 गेंदों पर 36 रन बनाए.

नई दिल्ली: मोहाली में शुरू हो रही तीन मैचों की टी20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत मैदान में उतरेगा, और काफी ध्यान इस बात पर होगा कि केएल राहुल कैसा प्रदर्शन करते हैं. हाल ही में समाप्त हुए एशिया कप में वह पांच मैचों में 132 रन बनाने में सफल रहे. हालांकि, विराट कोहली के अफगानिस्तान के खिलाफ सुपर 4 मैच में शतक बनाने के के बाद इस बात पर चर्चा शुरू हो गई कि क्या ओपनिंग रोहित शर्मा के साथ विराट कोहली को करनी चाहिए. हालांकि, रविवार को कप्तान रोहित शर्मा ने इस बात की पुष्टि कर दी कि केएल राहुल टी20 विश्व कप में बल्लेबाजी की शुरुआत करेंगे, जिसमें कोहली तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे या फिर बैकअप ओपनर होंगे.

जब भी क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप की चर्चा हाेती है तो केएल राहुल का स्ट्राइक-रेट हमेशा बहस का विषय रहता है. अब तक खेले गए 61 टी20 मैचों में इस दाएं हाथ के बल्लेबाज का स्ट्राइक रेट 140.91 रहा है. हालांकि, कई बार ऐसा हुआ है जब बल्लेबाज को मुश्किल हो रही है, एशिया कप में हांगकांग के खिलाफ मैच में उन्होंने 39 गेंदों पर 36 रन बनाए. मोहाली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत के पहले T20I से पहले राहुल से इस मुद्दे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस मुद्दे पर विस्तार से बात की…

कोई भी परफेक्ट नहीं होता है: राहुल
राहुल ने कहा, “देखो, जाहिर तौर पर कुछ ऐसा है जिस पर हर खिलाड़ी काम करना चाहता है. कोई भी पूर्ण नहीं होता है. बात ये भी है कि आपके खेल का आकलन स्ट्राइक-रेट के आधार पर किया जाता है. आप कभी यह नहीं देखते हैं कि बल्लेबाज एक निश्चित स्ट्राइक-रेट पर खेले, क्या उसके लिए 200 स्ट्राइक-रेट पर खेलना महत्वपूर्ण है या फिर 120-130 पर खेलते हुए टीम को जिताना. यही एक चीज है जिसका कोई विश्लेषण नहीं करता है.”

ये भी पढ़ें… रोहित शर्मा ने बताया, कौन पूरी कर सकता है टी20 वर्ल्ड कप में रवींद्र जडेजा की कमी?

टी20 के वाइस कैप्टन ने आगे कहा, “हां, कुछ ऐसा है जिस पर मैं काम कर रहा हूं, पिछले 10-12 महीनों में प्रत्येक खिलाड़ी को जो भूमिकाएं मिली हैं, वे बहुत स्पष्ट हैं, हर कोई इसके लिए काम कर रहा है. और, मैं सिर्फ इस दिशा में काम कर रहा हूं कि मैं खुद को कैसे बेहतर बना सकता हूं. एक सलामी बल्लेबाज के रूप में और जब भी मैं बल्लेबाजी करने जाता हूं तो मैं अपनी टीम पर कैसे प्रभाव डाल सकता हूं, इसके बारे में सोच रहा होता हूं.”

आलोचना तो कोई भी कर सकता है…
उपकप्तान ने कहा, “कई चीजों के लिए आलोचना हो सकती है, लेकिन एक खिलाड़ी के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ड्रेसिंग रूम में उसके कप्तान, कोच और टीम के साथी उसके बारे में क्या सोचते हैं. केवल हम ही जानते हैं कि हमारी भूमिका क्या है. हर खिलाड़ी से उम्मीद की जाती है. हर कोई अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश कर रहा है, लेकिन हर कोई हर खेल में सफल नहीं हो सकता है. हमने ऐसा माहौल बनाया है, जहां खिलाड़ी गलती करने या असफल होने से नहीं डरते हैं.”

ये भी पढ़ें… रिकी पॉन्टिंग ने बताया, किस खिलाड़ी को होना चाहिए ऑस्ट्रेलिया का नया वनडे कैप्टन

“कोई भी आलोचना कर सकता है लेकिन हम आप में से किसी से भी ज्यादा खुद की आलोचना करते हैं क्योंकि हम अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, आप अपने देश के लिए खेल जीतना चाहते हैं, और हम विश्व कप जीतना चाहते हैं. ये सभी चीजें हमारे दिमाग में हैं, अगर हम अच्छा मत करो, इससे हमें भी दुख होता है. हमारे समूह में क्या होता है, यही महत्वपूर्ण है. कप्तान और कोच हमेशा खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते हैं, न केवल जब वे अच्छा कर रहे होते हैं, बल्कि तब भी जब वे कठिन समय से गुजर रहे होते हैं. एक खिलाड़ी क्या देखना चाहता है, जिसे कोई भी व्यक्ति देखना चाहेगा, थोड़ा सा समर्थन, थोड़ी सी देखभाल जब कोई नीचे होता है.”

Tags: Icc T20 world cup, India vs Australia, KL Rahul, Rohit sharma



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.