हाइलाइट्स

प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राओं से डीआईजी भुल्लर ने रविवार की देर रात को मुलाकात की.
डीआईजी भुल्लर ने कहा कि दोनों तरफ से विश्वास होना जरुरी है.
वीडियो बनाने के मामले में पुलिस ने अभी तक तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

चंडीगढ़. पंजाब के चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के एक निजी कॉलेज के एक हॉस्टल में छात्राओं के नहाने के वीडियो बनाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है. राज्य सरकार के साथ-साथ पुलिस भी छात्र-छात्राओं से शांति की अपील कर रही है. वहीं बीते शनिवार की रात से ही कैंपस में प्रदर्शन व हंगामा जारी है. इस बीच डीआईजी जीएस भुल्लर ने प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राओं को विश्वास दिलवाया है कि पुलिस सहयोग कर रही है. उन्होंने कहा कि हम आपके यहां आते रहेंगे. दोनों तरफ से विश्वास होना जरूरी है. इस दौरान डीआईजी ने प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राओं को शांत करने की कोशिश करते रहे. वहीं मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मामला कम्युनिकेशन गैप का है. हम बार-बार स्पष्ट कर रहे हैं. हम छात्रों को आश्वस्त कर रहे हैं कि कानून का पालन किया जा रहा है, सभी कानूनी प्रक्रियाएं की जा रही हैं.

वहीं मोहाली डीसी अमित तलवार ने कहा कि आत्महत्या की कोई जानकारी सामने नहीं आई है. यह एक अफवाह है जिसे फैलाया गया है. हमें कोई जानकारी सामने नहीं आई है कि आत्महत्या हुई है. हॉस्टल में रहने वाली एक छात्रा द्वारा कई अन्य छात्राओं का ‘आपत्तिजनक’ वीडियो बनाए जाने की ‘अफवाह’ को लेकर पंजाब के मोहाली स्थित एक निजी विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया, जिसके बाद मुख्यमंत्री भगवंत मान ने रविवार को मामले की जांच के आदेश दिए हैं. शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने एक छात्रा को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा हिमाचल प्रदेश से 23 वर्षीय एक युवक को गिरफ्तार किया गया है जिसे उक्त छात्रा का बॉयफ्रेंड बताया जा रहा है. युवक को गिरफ्तार कर उसे पंजाब पुलिस के हवाले कर दिया गया है। हिमाचल प्रदेश पुलिस ने इस मामले में 31 वर्षीय एक अन्य व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है.

रात भर हुए प्रदर्शन के बाद स्थिति का जायजा लेने के लिये अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के परिसर पहुंचीं पंजाब की अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक गुरप्रीत देव ने संवाददाताओं से कहा कि ऐसा लगता है कि आरोपी छात्रा ने अपना एक वीडियो युवक के साथ साझा किया और किसी अन्य छात्रा का कोई आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला है. विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने भी उन खबरों को “झूठी व निराधार” बताकर खारिज कर दिया, जिनमें दावा किया गया था कि विश्वविद्यालय के छात्रावास में कई छात्राओं के वीडियो बनाए गए और सोशल मीडिया पर साझा किए गए तथा कई छात्रों ने इस प्रकरण के बाद आत्महत्या का प्रयास किया. (इनपुट भाषा से)

Tags: Chandigarh, Punjab



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.