हाइलाइट्स

आम आदमी पार्टी देश में अपना जनाधार बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास में जुटी है.
दिल्ली में AAP ने निर्वाचित प्रतिनिधियों और समर्थकों की पहली राष्ट्रीय बैठक आयोजित की.
AAP गुजरात में आगामी विधानसभा चुनाव को ‘मोदी बनाम केजरीवाल’ लड़ाई में बदलना चाहती है.

नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी देशभर में अपना जनाधार बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास में जुटी है. भले ही पार्टी के विधायक अलग-अलग मामलों में फंसते दिख रहे हो लेकिन आम आदमी पार्टी लगातार अलग-अलग कार्यक्रमों के माध्यम से देश भर में खुद को आगे बढ़ाने में जुटी है. इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी (आप) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में रविवार को देश भर से अपने निर्वाचित प्रतिनिधियों और समर्थकों की पहली राष्ट्रीय बैठक आयोजित की.

इस बैठक में आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल द्वारा बताए गए अनुसार 20 राज्यों के लगभग 1,500 लोग आगे के रास्ते पर चर्चा करने के लिए एकत्र हुए. इस बैठक में अधिकांश लोग दिल्ली और पंजाब से थे. वहीं इस कार्यक्रम में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान जर्मनी से वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में शामिल हुए.

‘हम गुजरात में सरकार बनाने जा रहे हैं’

इस बैठक में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज 20 राज्यों के 1,446 जनप्रतिनिधि जुटे हैं, ये वो बीज हैं जो भगवान ने बोए हैं. दिल्ली और पंजाब में ये बीज ऐसे पेड़ बन गए हैं जो लोगों को छाया और फल दे रहे हैं. गुजरात में भी भगवान ने 27 बीज लगाए हैं, जो खिलकर पेड़ बन जाएंगे. हम गुजरात में सरकार बनाने जा रहे हैं. केजरीवाल अपने विचार को संप्रेषित करने के लिए महाकाव्य महाभारत से एक सादृश्य का उपयोग किया. उन्होंने कहा- “10 साल की एक आप शक्तिशाली विरोधियों को हरा रही है और जैसे कृष्ण ने बचपन में कई राक्षसों को गिराया, आप भी, कृष्णा जी की तरह, गंदी राजनीति में लिप्त बड़ी पार्टियों को गिरा रही है, हम बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और महंगाई को कम कर रहे हैं”.

गुजरात के लिए AAP बना रही खास रणनीति 

बता दें, आम आदमी पार्टी गुजरात में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुट गयी है. इसी कोशिश के तहत पार्टी ने पंजाब के सांसद राघव चड्ढा को गुजरात का सह-प्रभारी नियुक्त किया है. राष्ट्रीय बैठक के दौरान राघव चड्ढा ने कहा कि मुझे पंजाब के बाद गुजरात के सह-प्रभारी की ज़िम्मेदारी दी गई है. जनता बीजेपी के 27 साल के कुशासन से बहुत दुखी है. गुजरात भ्रष्टाचार, ज़हरीली शराब और ड्रग्स का अड्डा बन गया है. गुजरात में बदलाव की लहर चल रही है. गुजरात केजरीवाल मॉडल ऑफ गवर्नेंस को अपनाने को तैयार है.

क्या होगी ‘मोदी बनाम केजरीवाल’ की लड़ाई?

दरअसल आम आदमी पार्टी गुजरात में आगामी विधानसभा चुनावों और 2024 के आम चुनावों को ‘मोदी बनाम केजरीवाल’ लड़ाई में बदलना चाहती है. यही वजह है कि अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी बीजेपी शासित राज्यों में विशेष रूप से अभियान चला रही है. बार महंगाई के मुद्दे पर बीजेपी सरकार को घेरने की कोशिश हो रही है. बता दें, बीते हफ्ते अरविंद केजरीवाल खुद गुजरात गए थे. गुजरात दौरे के दौरान उनकी ऑटो यात्रा की भी खूब चर्चा हुई थी.

Tags: AAP, Arvind kejriwal, Gujarat news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.