धर्मशाला. देश को जल्‍द नेशनल टूरिज्‍म पॉलिसी मिलने वाली है. इसका खाका तय हो चुका है. पॉलिसी घोषित करने का समय भी तय हो गया है. यह जानकारी केन्‍द्रीय पर्यटन और संस्‍कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने मीडिया से बात करती हुई दी. साथ ही, उन्‍होंने यह भी बताया कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अगले एक साल तक जी 20 देशों की 250 कांफ्रेंस होंगी. यह सभी कांफ्रेंस देश के प्रमुख पर्यटन स्‍थलों पर आयोजित की जाएंगी.

हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में राज्‍य के पर्यटन मंत्रियों के राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन से पूर्व मीडिया से बात करते हुए केन्‍द्रीय पर्यटन और संस्‍कृति मंत्री ने बताया कि नेशनल टूरिज्‍म पॉलिसी बजट सत्र से पूर्व घोषित कर दी जाएगी. इसका पूरा मसौदा तैयार हो गया है. मसौदा तय करने से पूर्व सभी स्‍टॉक होल्‍डर और संबंधित मंत्रालय से विचार विमर्श किया गया है. नेशनल टूरिज्‍म पॉलिसी के तहत इको टूरिज्‍म, होम स्‍टे, वाइल्‍ड लाइफ, वेलनेस, आयुर्वेद व मेडिकल वैल्यू टूरिज्‍म आदि को बढ़ावा दिया जाएगा.

जी किशन रेड्डी ने बताया कि अगले एक साल में जी20 की देश में 250 कांफ्रेंस कराई जाएंगी. इसमें पर्यटन मंत्रालय की 5 कांफ्रेंस होंगी. इसी तरह अन्‍य मंत्रालय की भी कांफ्रेंस आयोजित की जाएंगी. ये कांफ्रेंस देश के प्रमुख पर्यटन स्‍थलों में आयोजित की जाएगी, जिससे जी 20 से संबंधित अधिकारी देश के पर्यटन स्‍थलों को देखकर आकर्षित हो सकें.

उन्‍होंने बताया कि कुल आबादी की 85 फीसदी जनसंख्‍या जी20 देशों की है. वहीं कुल जीडीपी का 85 फीसदी इन्‍हीं जी20 की है. इसलिए पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यह कदम काफी कारगर होगा. इससे देश में घरेलू पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा.

पर्यटन मंत्रालय ने 3000 रेल कोचों को बुक कर दिया गया है. जो देश के अलग-अलग 15 सर्किट में चलाई जाएंगी. इन सर्किट में रामायण सर्किट, अंबेडकर सर्किट, बुद्धा सर्किट, हिमालयन सर्किट समेत कई सर्किट शामिल होंगे.

Tags: Himachal news, Tourism, Tourism minister



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.