हाइलाइट्स

देश में हड़ंकप मचा रहा चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो कांड
सीएम भगवंत मान ने दिए उच्च स्तरीय जांच के आदेश
पुलिस ने कहा- लड़की ने खुद के वीडियो शेयर किए

चंडीगढ़. देश में हड़कंप मचा रहे चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी कांड में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए हैं. इस कांड में अफवाह फैली है कि एक लड़की ने 60 छात्राओं के नहाते हुए वीडियो रिकॉर्ड कर वायरल कर दिए हैं. इस मामले को लेकर पुलिस ने कहा कि ‘छात्रा ने खुद के वीडियो युवक से शेयर किए. किसी और के नहीं.’ बता दें कि घटना मोहाली स्थिति यूनिवर्सिटी में शनिवार देर रात हुई. इसके बाद वहां हंगामा मच गया.

कथित रूप से वीडियो वायरल करने वाली छात्रा पर आरोप है कि वह लड़कियों का वीडियो बनाकर शिमला के एक युवक को भेजती थी. फिर वह इसे सोशल मीडिया पर वायरल करता था. युवक भी इसी यूनिवर्सिटी का छात्र बताया जा रहा है. दोनों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. मामले के तूल पकड़ता देख मुख्यमंत्री भगवंत मान ने पंजाबी में ट्वीट किया, ‘चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में हुई घटना का सुनकर दुख हुआ. हमारी बेटियां हमारा सम्मान हैं. इस घटना में उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं. जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा.’

अफवाहों पर यकीन न करें लोग- मान
मुख्यमंत्री ने कहा कि वे इस मामले को लेकर जिला प्रशासन के संपर्क में हैं. उन्होंने जनता से भी अपील की कि किसी भी तरह की अफवाह पर यकीन न करें. इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जो भी इस घटना में शामिल होंगे, उन्हें कठोर दंड दिया जाएगा. वहीं मोहाली के सीनियर एसपी विवेक शील सोनी ने कहा- प्राथमिक जांच में पता चला है कि छात्रा ने अपने ही वीडियो हिमाचल के किसी शख्स को शेयर किए. उस शख्स की भूमिका की जांच की जा रही है. इस मामले में छात्रा को हिरासत में लिया गया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में आईपीसी की धारा 354-सी और आईटी के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.

किसी और छात्रा का विडियो नहीं- कांग
दूसरी ओर यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया कि कई छात्राओं के विडियो बनाए गए और सोशल मीडिया पर शेयर किए गए. यूनिवर्सिटी के छात्र कल्याण विभाग के डायरेक्टर डॉ. अरविंदर सिंह कांग ने कहा कि हमने इस मामले की जांच की. प्राथमिक तौर पर लग रहा है कि किसी अन्य छात्रा का वीडियो नहीं बनाया गया है. उन्होंने कहा कि आगे और स्पष्ट जांच के लिए इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है. इस अफवाह में कोई सच्चाई नहीं है कि वीडियो शेयर होने के बाद छात्राओं ने आत्महत्या का प्रयास किया.

मंत्री ने की शांति बरतने की अपील
पंजाब के स्कूल शिक्षा मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने इस मामले में छात्रों से शांति बरतने की अपील की है. उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया है कि दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा यह संवेदनशील मुद्दा है. यह हमारी बहनों और बेटियों की गरिमा से जुड़ा है. हम सभी और मीडिया को इसमें सावधान रहने की जरूरत है. ये हमारे समाज की परीक्षा का समय है. वहीं, सीनियर एसपी सोनी ने कहा कि उस अफवाह पर बिल्कुल ध्यान न दें, जिसमें कहा जा रहा है कि कई छात्राओं ने आत्महत्या की कोशिश की है. इस घटना से जुड़ी कोई मौत नहीं हुई है.

Tags: Punjab news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.