हाइलाइट्स

भारत का एक स्वतंत्र विदेश नीति का दावा चीन में ऑनलाइन काफी चर्चा में रहा है.
यूक्रेन युद्ध पर सैद्धांतिक रुख के कारण चीन की जनता के बीच पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी है.
चीन ने इस मुद्दे पर रूस का खुलकर समर्थन किया है.

नई दिल्ली. उज्बेकिस्तान के समरकंद में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के 22वें शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिरकत की. खास बात यह है कि गलवान घाटी पर झड़प के बाद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम मोदी आमने-सामने आए. सीमा पर चीन और भारत के बीच सैन्य गतिरोध को देखते हुए, उनकी मुलाकात पर दुनिया भर की नजर है. भारत के रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध पर सैद्धांतिक रुख के कारण चीन की जनता के बीच पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी है. भारत का एक स्वतंत्र विदेश नीति का दावा चीन में ऑनलाइन काफी चर्चा में रहा है.

ऐसे में संभावना है कि पीएम मोदी और जिनपिंग के बीच द्विपक्षीय बैठक भी हो सकती है. अगर द्विपक्षीय बैठक संभव हुई तो पूरी दुनिया की निगाह इसी पर होगी. गौर करने वाली बात यह होगी कि चीनी राष्ट्रपति अपने सैनिकों की आक्रमक हरकतों का कैसे जवाब देंगे.

मनोहर पर्रिकर इंस्टीट्यूट फॉर डिफेंस स्टडीज एंड एनॉलसिस के ईस्ट एशिया सेंटर में एसोसिएट फेलो एमएस प्रतिभा ने इंडियन एक्सप्रेस में इसे लेकर एक लेख लिखा. लेख में उन्होंने कहा है कि दोनों नेताओं के बीच यदि बैठक होती है तो इसके प्रमुख कारणों में से एक भारत के बारे में चीनी जनता की राय हो सकती है. उनका मानना है कि पीएम मोदी प्रमुख शक्तियों के साथ संबंधों को संतुलित करके भारत के राष्ट्रीय हितों को लेकर आगे बढ़ते हैं.

यूक्रेन संकट पर PM मोदी से प्रभावित चीन
चीनी जनता यह मानती है कि चीन को यूक्रेन संकट को लेकर एक समान संतुलित दृष्टिकोण अपनाना चाहिए था. चीन की जनता यह भी मानती है कि भारत सरकार चीन की तुलना में अपने स्टैंड को लेकर अपनी जनता को समझाने में अधिक सफल रही है. गौरतलब है कि चीन ने इस मुद्दे पर रूस का खुलकर समर्थन किया है. इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय मंचों पर लगातार चीन ने रूस का साथ दिया है.

विदेश मंत्री जयशंकर चीन में हैं स्टार
प्रतिभा ने लेख में आगे लिखा है कि चीन की सोशल मीडिया पर वहां के एक्सपर्ट्स भारत की नीति के बारे में चर्चा करते रहते हैं. यूक्रेन संकट के लिए भारत की स्थिति को लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर के दिए गए मजबूत तर्कों ने उन्हें चीन में स्टार बना दिया है.

Tags: India china issue, PM Modi, Xi jinping



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.