समरकंद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्बेकिस्तान के समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन के मौके पर तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन के साथ द्विपक्षीय बैठक की. इस दौरान दोनों नेताओं ने विविध क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करने के तरीकों पर बात की है. प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन एससीओ शिखर सम्मेलन के मौके पर तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन के साथ द्विपक्षीय बैठक के दौरान व्यापार और आपसी रिश्तों को मजबूत करने पर बात की है.

तुर्की के राष्ट्रपति के साथ भारत के प्रधानमंत्री की वार्ता को काफी अहम बताया जा रहा है. इस वार्ता के दौरान उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव ने 22वें एससीओ शिखर सम्मेलन के लिए पीएम मोदी पीएम मोदी का स्वागत किया. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अगले वर्ष भारत को एससीओ समिट की मेजबानी के लिए बधाई दी. रूसी राष्ट्रपति के अलावा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी एससीओ के प्रमुखों के विस्तारित सर्कल की बैठक के दौरान 2023 में एससीओ की अध्यक्षता के लिए भारत को बधाई दी.

एससीओ के सुधार और विस्तार और व्यापार को बढ़ावा देने पर चर्चा
इस मीटिंग में एससीओ के सुधार और विस्तार, रीजनल सिक्योरिटी, सहयोग, कनेक्टिविटी को मजबूत करने और व्यापार को बढ़ावा देने पर चर्चा की गई है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज जब पूरा विश्व महामारी के बाद आर्थिक रिकवरी की चुनौतियों का सामना कर रहा है, ऐसे में एससीओ की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है. एससीओ के सदस्य देश वैश्विक जीडीपी में लगभग 30 प्रतिशत का योगदान देते हैं और विश्व की 40 प्रतिशत जनसंख्या भी एसईओ देशों में निवास करती है. भारत एससीओ सदस्यों के बीच अधिक सहयोग और आपसी विश्वास का समर्थन करता है.

पीएम मोदी और रूस के राष्ट्रपति के बीच मुलाकात शुरू
एससीओ बैठक के बाद समरकंद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच मुलाकात शुरू हो गई है. इस मुलाकात को बेहद अहम माना जा रहा है. रूस-यूक्रेन जंग को लेकर भी यह मुलाकात खास है. इस पर दुनियाभर की नजरें टिकी हैं.

Tags: Narendra modi, SCO Summit





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.