पानीपत. हरियाणा के पानीपत जिले के गांव सिवाह स्थित जिला जेल के बाहर सोनीपत के गांव जागसी और कथुरा के लोगों ने प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी लोगों का आरोप है कि उनके बेटे, भाई विभिन्न केसों में पानीपत जेल में बंद हैं. बंदियों पर हत्या की साजिश, लूट जैसे संगीन आरोप लगे हैं. इसी के चलते जेल प्रशासन उन्हें बहुत ज्यादा प्रताड़ित कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि इन्हीं प्रताड़नाओं के चलते उनके करीब 30 बंदियों ने भूख हड़ताल की है.

परिजनों के आरोप है कि जेल प्रशासन उनके बच्चों से रुपए, महंगी शराब की डिमांड करते हैं. ये मांगे पूरी करने के बाद भी जेल प्रशासन की मांग बढ़ गई, इसलिए उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है.

सोनीपत के गांव जागसी निवासी रामकुमार ने बताया कि पानीपत जेल में उसके दो बेटे बंद है. दोनों पर डबल मर्डर केस में साजिश रचने के आरोप हैं. उसके एक बेटे ने बीती 31 दिसंबर की रात को चद्दर से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली है. रामकुमार के मुताबिक बेटे ने जेल प्रशासन की प्रताड़ना, मांग के चलते यह कदम उठाया था.

उन्होंने जेल डीएसपी जोगिंदर देशवाल पर महंगी शराब की मांग करने, रुपए की मांग करने के आरोप लगा रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब दीपक हुड्‌डा डीएसपी आए हैं, जिन्होंने भी इसी तरह का बर्ताव करना शुरु कर दिया है. उन्होंने यह भी आरोप लगाए हैं कि वे डीएसपी को 14 लाख रुपए दे चुके हैं, मगर और मांग के लिए वे बंदियों को प्रताड़ित कर रहे हैं. आरोप है कि उनकी मांग पूरी न होने पर बंदियों को जेल की चक्की में बंद कर दिया गया है. वहां न ही उन्हें खाना मिल रहा है और न ही उन्हें अन्य कैदियों की तरह जेल परिसर में घूमने दिया जा रहा है.इससे उनके बंदी काफी प्रताड़ित है.

तीन दिन से जेल में नहीं मिला खाना

गांव कथूरा निवासी धर्मबीर ने बताया कि उसने अपने बेटे से जेल में मुलाकात की. बेटे ने बताया कि उसने जेल में 3 दिन से खाना नहीं खाया है. क्योंकि जेल प्रशासन उसे लगातार प्रताड़ित कर रहा है. पिता ने कहा कि अगर उनके बेटे ने कोई गलत कदम उठा लिया तो इसका जिम्मेदार जेल प्रशासन होगा. डीएसपी दीपक हुड्‌डा प्रताड़ित कर रहे हैं. जेल प्रशासन की रुपए की मांग है. बेटे ने यह भी बताया कि अगर हालत ये ही रहे तो वे सुसाइड करने पर मजबूर होंगे. सोनीपत के गांव मलाना निवासी अभिमन्यु ने बताया कि उसका बेटा जेल में लूट के आरोप में बंद है. उसके बेटे को नाजायज फंसाया गया है. जेल प्रशासन उसके बेटे को लगातार प्रताड़ित कर रहे थे. उसका बेटा 11 माह से जेल में बंद है. डीएसपी दीपक हुड्‌डा के आने के बाद उसके बेटे को चक्की में बंद कर दिया गया है और रुपए की मांग के लिए बंदियों को प्रताड़ित किया जा रहा है. परिजनों द्वारा लगाए गए आरोपों को लेकर कई कई बार जेल सुपरिंटेंडेंट से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन वह कैमरे के सामने नहीं आए.

Tags: Haryana crime news, Haryana latest news, Panipat Police



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.