रिपोर्ट- पवन सिंह कुंवर

हल्द्वानी. उत्तराखंड के हल्द्वानी शहर में कालाजार रोग के मरीज सामने आए हैं. सुशीला तिवारी राजकीय अस्पताल (Sushila Tiwari Hospital Haldwani) में दो मरीज भर्ती हैं. जबकि एक मरीज की मौत हो चुकी है. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है. सामान्य तौर पर कालाजार की बीमारी उत्तर प्रदेश, बिहार आदि राज्यों में ही दिखती थी, लेकिन अब उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में भी इस बीमारी के मरीज सामने आने लगे हैं.

सुशीला तिवारी राजकीय अस्पताल के प्राचार्य डॉ अरुण जोशी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कालाजार से ग्रसित मृतक व्यक्ति को काफी तेज बुखार था. मरीज के शरीर में खून की काफी ज्यादा कमी थी. इसके साथ उन्‍होंने बताया कि बीमारी के लक्षण दिखते ही समय पर डॉक्टर की सलाह लें, ताकि वक्त पर इलाज शुरू किया जा सके और मरीज की जान बचाई जा सके. बता दें कि कालाजार बीमारी सैंड फ्लाई से फैलती है. इसमें तेज बुखार आना, खून की कमी आदि लक्षण देखने को मिलते हैं. कुछ समय बाद शरीर काला पड़ने लग जाता है.

कुमाऊं में कालाजार बीमारी आने से स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी चिंता
मिली जानकारी के अनुसार, वर्तमान में सुशीला तिवारी अस्पताल में कालाजार से ग्रस्त दो मरीज भर्ती हैं. दोनों का इलाज चल रहा है. एसटीएच के डॉक्टरों ने कुमाऊं में कालाजार रोग के मामले सामने आने पर हैरानी जताई है. दरअसल गर्म इलाकों में होने वाला कालाजार नामक रोग अब पहाड़ों के ठंडे इलाके में भी दस्तक दे रहा है. यह जांच और चिंता का विषय है. कालाजार रोग ‘लेबोटोमस बी’ नाम की मक्खी के काटने से होता है. यह मक्खी ज्यादातर गर्म क्षेत्रों में पाई जाती है. स्वास्थ्य विभाग ने इसका संज्ञान लेते हुए जिन इलाकों से मरीज लाए गए हैं, वहां इसकी पड़ताल करनी शुरू कर दी है.

Dr Susheela Tiwari Government Hospital

Tags: Government Hospital, Haldwani news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.