हाइलाइट्स

पंजाब के गैंगस्टर को कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूके से मिल रही मदद.
बंबिहा गैंग पाकिस्तान में मौजूद आतंकियों की भी ले रहा है हेल्प.
सिद्धू मूसेवाला मर्डर के बाद कई बार बिश्नोई गैंग को दे चुका धमकी.

चंडीगढ़. बीते दिनों पंजाब पुलिस के इंटेलिजेंस मुख्यालय पर हुए हमले और पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या (Siddhu Moose Wala Murder Case) में खुफिया एजेंसियां कुछ चीजों कॉमन देख रही हैं. बीते कुछ दिनों में पंजाब में हो रही गैंगस्टर की वारदातों और खून खराबे के बीच पाकिस्तान (Pakistan) का नाम सामने आ रहा है. खुफिया एजेंसियों से लेकर स्थानीय पुलिस और इंटेलिजेंस इस बात से इनकार नहीं कर रही हैं कि पाकिस्तान की तरफ से नशा हथियार और स्थानीय क्रिमिनल का इस्तेमाल अब माहौल खराब करने के लिए किया जा रहा है. पंजाब के गैंगस्टर और स्थानीय क्रिमिनल्स को बकायदा कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूके और साउथ अफ्रीका के देशों से निर्देश भिजवाए जा रहे हैं.

सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब की दो गैंग लगातार खबरों में बने हुए हैं. पहला बिश्नोई गैंग-जिसने सिद्धू मूसेवाला की हत्या का जिम्मा लिया है. दूसरा- बंबिहा (Bambiha Gang) गैंग, जिसे देविंदर बंबिहा ने बनाया था. दविंदर पंजाब के मोगा जिले के बंबिहा गांव का रहने वाला था. जुर्म की दुनिया में आने से पहले वो एक अच्छा कबड्डी प्लेयर माना जाता था. दविंदर तब BA फर्स्ट ईयर में था, जब उसके ऊपर पहली बार मर्डर का चार्ज लगा था. इसके बाद उसने मर्डर, अटैंप्ट टू मर्डर, डकैती जैसे कुख्यात अपराधों को अपनी पहचान बना लिया. बंबिहा पर 15 से ज्यादा केस दर्ज हुए, जिसमें 6 मर्डर के थे.

बंबिहा को एक शार्प शूटर माना जाता था. 20 फरवरी 2016 की बात है. स्टूडेंट लीडर से सरपंच बने रजविंदर सिंह उर्फ रवि ख्वाजा का मर्डर कर दिया गया. ख्वाजा एक शादी समारोह में मौजूद थे. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक बंबिहा पर रवि ख्वाजा को 14 गोलियां मारने का आरोप लगा था. इस घटना के 7 महीने बाद सितंबर 2016 में पुलिस ने बंबिहा का एनकाउंटर कर दिया. बठिंडा के रामपुर फूल गांव में पुलिस ने बंबिहा को मार गिराया.

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड से एक बार फिर बंबिहा गैंग बौखला गया है. अब ये गैंग मूसेवाला मर्डर केस की जिम्मेदारी लेने वाले लॉरेंस बिश्नोई गैंग से बदला लेने की ठान कर बैठा है. बीते दिनों बंबिहा गैंग ने बिश्नोई गैंग को धमकी भी दी थी. यही नहीं, लॉरेंस को सीधी टक्कर देने के लिए अब बंबिहा गैंग ने सीमा पार यानी पाकिस्तान में मौजूद आतंकियों की मदद लेना भी शुरू कर दिया है. पंजाब पुलिस ने कुछ सबूतों के आधार पर ये दावा किया है.

बंबिहा गैंग अब तिहाड़ जेल में बंद नीरज बबानिया कौशल, अमित डागर, टिल्लू ताजपुरिया और उसके लड़कों की मदद से दिल्ली- एनसीआर, पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में अपना सिक्का जमाने की कोशिश में है.

ये हैं बंबिहा गैंग के खास सदस्य:-

लखवीर रोड़े: पंजाब में पैदाइश और फिलहाल पाकिस्तान ISI की शरण मे है. पंजाब पुलिस इंटेलीजेंस के अधिकारियों ने न्यूज18 इंडिया को बताया कि लखवीर रोड़े आतंकी रिन्दा से कही ज्यादा मजबूत और खतरनाक है. जिसका नाम हाल में पंजाब में कई आतंकी घटनाओं में मास्टमाइंड के तौर पर आ चुका है.

अर्श डल्ला: कनाडा में रह रहे अर्श डल्ला को पंजाब, दिल्ली और हरियाणा में न केवल आतंकी घटनाओं, बल्कि बंबिहा गैंग को मजबूत करने के लिए जाना जाता है. भारत में अर्श डल्ला के गुर्गे दीपक, संदीप और सोनू डागक तो आतंकी साजिश रचने के आरोप में दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है.

पाकिस्तान से लखवीर रोड़े और कनाडा से अर्श दल्ला इन गैंगस्टरों को फंड हथियार और लॉजिस्टिक सब मुहैया किया जा रहा है. बंबिहा गैंग का एक विंग सीधे आतंकी वारदात में शामिल होता जा रहा है. दूसरा विंग देश में ही दहशतगर्दी का माहौल बनाने में लगा है.

Tags: Sidhu Moose Wala



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.